Available languages:
हॉलोकास्ट के प्रभावितों की याद में अंतरराष्ट्रीय दिवस पर संदेश
22 Jan 2020 -  इस दिन हम सब एक साथ हमारे समय के सबसे भयंकर अपराधों को याद करते हैं – 60 लाख यहूदी पुरुषों, महिलाओं और बच्चों को संगठित तरीक़े से मार दिया गया था. नाज़ियों और उनके सहयोगियों ने हॉलोकास्ट में लाखों अन्य लोगों को भी ख़त्म कर दिया. हम कभी ना भूलने की प्रतिज्ञा करते हैं, हम उनकी आपबीती की कहानियों को आगे बढ़ाने का संकल्प लेते हैं, और एक न्यायपूर्ण व शांतिपूर्ण विश्व में सभी के लिए सम्मानजनक जीवन जीने का अधिकार सुनिश्चित करके उनकी कहानियों को सम्मानित करने का भी संकल्प लेते हैं. 75 वर्ष पहले, मौत के शिविरों को आज़ाद कराने पर ही वो क़त्लेआम रुका, और... जब नाज़ियों के अपराधों का पूरा चिट्ठा सामने आया तो उसने पूरी दुनिया को दहला दिया. उन भयंकर हालात की छाया से शांति व इंसानियत की ख़ातिर सभी देशों को एकजुट करने और मानवता के विरुद्ध ऐसे अपराध फिर होने से रोकने के लक्ष्य के साथ संयुक्त राष्ट्र वजूद में आया. हाल के वर्षों में नफ़रत बढ़ना, हिंसक चरमपंथ व आस्था स्थलों पर हमले होना दिखाता है यहूदीवाद का विरोध, धार्मिक पूर्वाग्रह के अन्य रूप, नस्लवाद और पूर्वाग्रह आज भी हमारे सामने हैं. 75 वर्ष हो चुके हैं, नियो नाज़ी और श्वेत सर्वाधिकारवादी फिर से अपनी मौजूदगी बढ़ा रहे हैं. हॉलोकॉस्ट की भीषणता को कम करने व उसे अंजाम देने वालों की ज़िम्मेदारी को नकारने का चलन भी देखा गया है, लेकिन जैसे-जैसे नफ़रत बढ़ती है, उससे लड़ने का हमारा संकल्प भी मज़बूत होता है. आज और हर दिन, हम सच पर अमल करके, स्मरण व जागरूकता फैलाकर, और दुनिया भर में शांति व न्याय की स्थापना करके, हॉलोकॉस्ट का शिकार हुए लोगों को सम्मान दे रहे हैं.
Open Video Category