Available languages:
विश्व शरणार्थी दिवस पर महासचिव का वीडियो संदेश (20 जून 2019)
19 Jun 2019 -  विश्व शरणार्थी दिवस पर महासचिव का वीडियो संदेश

विश्व शरणार्थी दिवस पर मेरी संवेदनाएं उन सात करोड़ से ज़्यादा महिलाओं, बच्चों और पुरुषों के साथ है जो शरणार्थी और आंतरिक रूप से विस्थापित हैं. जिन्हें युद्ध, संघर्ष और उत्पीड़न से बचने के लिए घर छोड़ना पड़ा.

यह हैरान कर देने वाली संख्या है – जो बीस साल पहले की संख्या की दोगुनी है.

जबरन विस्थापन का शिकार होने वाले अधिकांश लोग चंद ही देशों से हैं: सीरिया, अफ़ग़ानिस्तान, दक्षिण सूडान, म्यांमार और सोमालिया. पिछले 18 महीनों में लाखों लोग वेनेज़्वेला छोड़ कर जा चुके हैं.

मैं उन देशों की मानवीयता को पहचान देना चाहता हूं जो आर्थिक चुनौतियों और सुरक्षा चिंताओं से जूझने के बावजूद शरणार्थियों को शरण देते हैं.

उनके आदर सत्कार का जवाब हमें विकास और निवेश के साथ देना चाहिए.

यह खेदजनक कि उनके उदाहरण का हर कोई अनुसरण नहीं करता. अंतरराष्ट्रीय संरक्षण व्यवस्था की अखंडता को हमें फिर से स्थापित करना होगा.

ग्लोबल कॉम्पैक्ट ऑन रैफ़्यूज़ीज़ को पिछले साल दिसंबर में अपनाया गया जिसमें आधुनिक ढंग से शरणार्थी समस्या से निपटने का ब्लूप्रिंट है.

शरणार्थियों को सबसे ज़्यादा ज़रूरत शांति की होती है.

दुनिया भर में लाखों लोगों ने यूएन शरणार्थी एजेंसी की मुहिम में हिस्सा लिया है और शरणार्थियों के साथ एकजुटता दिखाते हुए वे छोटे और बड़े कदम उठा रहे हैं. क्या आप भी शरणार्थियों के साथ एक कदम आगे बढ़ाएंगे?

धन्यवाद.
Open Video Category
Non-Governmental Organizations